शारदा अभ्रक खदान से अभ्रक लदे बाइक जब्त ,वन अधिनियम के तहत होगी प्राथमिकी दर्ज

October 13, 2021
123
Views

Bihar:Nawada

नवादा– प्रखंड क्षेत्र में अभ्रक खनन का कार्य जोर-शोर से चल रहा है।वन विभाग की टीम कार्यवाही करने में भी पीछे नहीं है।इसी क्रम में वन विभाग की टीम ने बुधवार की दोपहर वनपाल राजकुमार पासवान के नेतृत्व में सवैया टांड़ पंचायत अंतर्गत चटकरी अवस्थित अभ्रक खदान पर छापेमारी की।जहां से वनपाल के नेतृत्व में टीम ने एक बाइक के साथ – साथ एक बोरा अभ्रक को जप्त कर रजौली वन विभाग कैपस में लाया गया है।

इस संबंध में वनपाल राजकुमार पासवान ने बताया कि क्षेत्र भ्रमण के क्रम में शारदा माइंस पर अभ्रक अवैध खनन की सूचना मिली।जहां तत्काल केयर टेकर व वन विभाग आरक्षी के सहयोग से छापेमारी की गई। हालांकि छापामारी के दौरान अभ्रक खनन करने वाले कारोबारी जंगल के रास्ते भागने में सफल रहे।उन्होंने बताया कि मौके से दो बाइकों को जप्त किया गया है। हीरो कम्पनी के ग्लैमर संख्या जेएच12जी2037 को जब्त किया गया है। उन्होंने बताया कि वन अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज की जा रही है। खनन के कार्य में लगे कारोबारियों की भी पहचान जल्द ही कर उनके उपर कार्रवाई की जाएगी।बताते चलें कि अभ्रक का इस्तेमाल कार, भवन, एलेक्ट्रॉनिक्स और सौंदर्य प्रसाधन बनाने में होता है। इस विषय के विशेषज्ञ मानते हैं कि बिहार में कभी बेहतरीन गुणवत्ता वाले अभ्रक का उत्पादन किया करता था।

वर्षों पहले यहां से अभ्रक का निर्यात किया जाता था।लेकिन जब से खनन का लीज खत्म हुई है।तब से लेकर आज तक चोरी छिपे झारखंड के माफिया अवैध खनन करने में लगे हुए हैं।इससे पूर्व भी 27 सितम्बर को वनपाल द्वारा दो बाइक के साथ दो बोरा माइका जब्त किया गया था।बीते 8 अप्रैल को खनन एवं भूतत्व मंत्री जनक राम ने चटकरी स्थित शारदा माइंस पर अवैध खनन को लेकर दौरा किया था। कहा था कि रजौली प्रखंड के सवैयाटांड़ पंचायत अवस्थित शारदा माइंस में बहुत पहले सरकारी बंदोबस्ती द्वारा खनन कार्य किया जाता था। लोगों में यह अवधारणा बनी हुई है के शारदा माइंस के अलावे बिहार के अनेकों जगहों में अवैध खनन का कार्य माफियाओं द्वारा धड़ल्ले से किया जा रहा है।

शारदा माइंस पर निरीक्षण करने के बाद यह ज्ञात हुआ कि यहां माफियाओं द्वारा अवैध खनन किया जा रहा है।जिससे मंत्री जी ने सम्बंधित सभी पदाधिकारियों को डांट फटकार लगाई थी। मंत्री ने कहा था कि अवैध खनन को लेकर उच्च स्तरीय बैठक कर पर्याप्त मात्रा में पुलिस फोर्स वन विभाग को उपलब्ध करायी जायेगी।जिसपर अवैध रूप से हो रहे खनन पूर्णतः बन्द हो जायेगी।अवैध खनन करने वाले लोगों के साथ प्रसाशन सख्ती से पेश आएगी।साथ ही खनन मंत्री ने वन विभाग के पदाधिकारियों को डांट फटकार लगाते हुए मजदूरों को पकड़कर उनके ऊपर केस कर देने से अपना कोरम पूरा ना करने की बात कही है।बल्कि वृहद पैमाने पर खनन कार्य कर रहे खनन माफियाओं पर कार्रवाई सुनिश्चित करने की बात कही थी।बावजूद खनन होते रहना विभाग की मिलीभगत को दर्शाता है।दर्जनों जगहों पर अवैध रूप से अभ्रक खनन जोरों से चल रहा है।मजदूरों की मौत भी होती है,जिसमें जमकर पैसों की खेल होती है और मामले को दबा दिया जाता है।

रिपोर्ट: संजय वर्मा

Article Categories:
अपराध · राज्य

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, spreadsheet, interactive, text, archive, code, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.