कोरोना काल के दौरान देश में ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत नहीं हुई, इस बयान पर भड़के जाप पार्टी के राजू दानवीर

July 22, 2021
180
Views

BIHAR: PATNA

पटना– कोरोना काल में ऑक्सीजन की कमी से एक भी लोगों की मौत नहीं हुई, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री का यह बयान दुर्भाग्यपूर्ण और हास्यास्पद है। अगर लोगों की मौत ऑक्सीजन से नहीं हुई तो क्या लोगों ने आत्महत्या की? उस वक़्त श्री पप्पू यादव पागलों की तरह अस्पताल से लेकर हर जगह ऑक्सीजन सिलिंडर पहुंचा रहे थे, क्यों? आखिर क्यों उस वक़्त ऑक्सीजन की कालाबाज़ारी हो रही थी? क्यों ऑक्सीजन को बाउंसर की सुरक्षा में ले जाया जा रहा था? सिर्फ पटना में छोटे से बड़े ऑक्सीजन सिलिंडर 20 से 50 हजार तक में बिक रहे थे।

बता दें की नयी दिल्ली की डेस्क रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय जनता पार्टी ने केंद्र सरकार के ऑक्सीजन की कमी से मौत नहीं होने वाले बयान पर विपक्ष के आरोपों को निराधार बताते हुए कहा है कि किसी भी राज्य ने नहीं कहा कि ऑक्सीजन की कमी से मौत हुई है।

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने बुधवार को यहाँ एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, केंद्र सरकार के जवाब पर तीन चीजें ध्यान देने योग्य हैं। पहला, केंद्र कहती है कि स्वास्थ्य राज्यों का विषय है। दूसरा , केंद्र कहती है कि हम सिर्फ राज्यों के भेजे आंकड़ों को संग्रहित करते हैं और तीसरा सरकार ने एक दिशानिर्देश जारी किया है, जिसके आधार पर राज्य अपने मौत के आंकड़ों को रिपोर्ट कर सकें।

उन्होंने कहा, किसी भी राज्य ने ऑक्सीजन की कमी को लेकर हुई मौत पर कोई आंकड़ा नहीं भेजा। किसी ने यह नहीं कहा कि उनके राज्य में ऑक्सीजन की कमी को लेकर मौत हुई है। राज्यों से आई रिपोर्ट के आधार पर केंद्रीय मंत्री ने सदन में यह बात कही थी। केंद्र द्वारा डेटा तैयार नहीं किया जाता। राज्यों के आंकड़ों के आधार पर केंद्र ने सदन में जवाब दिया। विपक्ष बेवजह इस मामले पर राजनीति कर रहा है। विपक्ष में संवेदनशीलता की भारी कमी है।

केंद्र सरकार ने भी दूसरे देशों से ऑक्सीजन की खेप मंगाई थी। अगर ऑक्सीजन से लोगों की मौत नहीं हो रही थी तो ये सब क्यों था। लोगों की मौत ऑक्सीजन की कमी और कालाबाज़ारी, वेंटीलेटर की कमी और कालाबाज़ारी, एम्बुलेंस और दवाओं की कालाबाज़ारी की वजह से हो रही हुई थी। केंद्रीय मंत्री के इस बयान साफ जाहिर होता है कि वे सिर्फ जुमला ही जानते हैं। उनकी कार्यशैली जुमलों वाली है। कहने को डबल इंजन की सरकार है। एक इंजन गैर जिम्मेदार वाला बयान देता है, दूसरा इंजन खामोशी से उसकी स्वीकृति देता है। आज जो लोग बोल रहे हैं, उन्होंने जनता के लिए कुछ नहीं किया। उस मुसीबत के वक्त के सिर्फ एक पप्पू यादव ही थी जो जान पर खेल कर लोगों को मदद पहुंचा रहे थे। पप्पू यादव अस्पताल से शमसान तक लोगों की सेवा कर रहे थे। आज भी पप्पू यादव जी को जनता की चिंता है। वे बार – बार कह रहे हैं कि सरकार कोरोना के तीसरी लहर की तैयारी करे, लेकिन आज भी कोई अस्पताल इसके लिए तैयार नहीं है।

रिपोर्ट: आर के मेहेरा

Article Categories:
राजनीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, spreadsheet, interactive, text, archive, code, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.