फर्जी डिग्री पर नौकरी पाने वाले टीचर्स पर गाज गिर सकती है, 11 हजार डिग्रियों की दोबारा होगी जांच, जाने

June 19, 2021
365
Views

BIHAR: PATNA

पटना- बिहार में 88 हजार शिक्षकों की नौकरी इन दिनों खतरे में है. इनमें 11 हजार शिक्षकों की डिग्रियों की जांच दोबारा की जाएगी. पंचायती राज और नगर निकाय संस्थानों के तहत साल 2006 से 2015 तक के बीच नियुक्त होने वाले 11 हजार शिक्षकों की डिग्री की जांच फिर से की जाएगी. वहीं अब तक 88 हजार शिक्षकों के सर्टिफिकेट भी शिक्षा विभाग की तरफ से निगरानी जांच को मुहैया नहीं कराए जा सके हैं.

इन्हें 21 जून से 20 जुलाई तक अपने सर्टिफिकेट साइट पर अपलोड करने होंगे. जो शिक्षक जानकारी नहीं देंगे उनकी नियुक्ति को अवैध मानकर उनकी सेवाओं को खत्म कर दिया जाएगा. सरकार ने इन्हें आखिरी मोहलत दी है. मिली जानकारी के मुताबिक 2.7 लाख शिक्षकों के नियोजन फोल्डर निगरानी जांच को दिए गए थे, उनमें काफी करता ही इस जॉब को प्राप्त कर रहा है या नहीं। इसके साथ साथ दस्तावेज़ सत्यापन कम हैं.

प्राथमिक शिक्षा निदेशालय से मिली जानकारी के मुताबिक इनमें 11 हजार शिक्षकों के पेपर्स टेक्निकल कमी और सर्टिफिकेट पूरे नहीं होने की वजह से दोबारा इनको अपने सर्टिफिकेट जांच के लिए देने होंगे. पटना हाई कोर्ट के आदेश पर पिछले साढ़े चार सालों से नियोजित टीचर्स की डिग्रियों की जांच की जा रही है.

साल 2006 से 2015 तक नियुक्त होने वाले तीन लाख दस हजार शिक्षकों में से 2.7 हजार शिक्षकों के फोल्डर्स निगरानी जांच टीम को दिए गए थे. मार्च 2021 तक 1.3 लाख शिक्षकों के फोल्डर जांच टीम को नहीं मले थे. शिक्षा विभाग की सख्ती के बाद 15 हजार और शिक्षकों के सर्टिफिकेट भी जांच टीम को सौंप दिए गए. अब भी 88 हजार शिक्षकों के सर्टिफिकेट की जांच होनी है. इन शिक्षक की लिस्ट वेबसाइट एनआइसी पर अपलोड की जा चुकी है. 21 जून से 20 जुलाई तक इन टीचर्स को अपने सर्टिफिकेट पोर्टल पर अपलोड करने होंगे.

JHATPAT OLINE,DESK

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, spreadsheet, interactive, text, archive, code, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.